क्या एक नए नस्ल के कीडे को छूने से उसका घातक विषाणु इंसानी शरीर में फैलता है ? जानिये सच |

False Medical National
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१८ जून २०१९ को फेसबुक पर ‘Ranjana Akoijam’ नामक एक यूजर ने एक पोस्ट साझा किया है | तस्वीर में एक प्रकार का कीड़ा दर्शाया गया है और साथ ही एक इंसानी हाथ व उंगलियाँ जिनमे छेद हो चुके हैं | पोस्ट का हिंदी अनुवादित विवरण इस प्रकार है – नया खूनी कीड़ा (तस्वीर देखिये) अगर यह कीड़ा आपको कहीं भी दिखे तो इसे अपने हाथों से मारने का प्रयत्न या इसे छूने की कोशिश ना करें | शरीर के किसी भी हिस्से से संपर्क होने पर यह कीड़ा एक प्रकार का विषाणु छोड़ता है और वह विषाणु इंसानी शरीर में कुछ ही क्षणों में फैलता है | भारत मे इसे सबसे पहले देखा गया है | कृपया कर इस संदेश को अपने परिवार और दोस्तों में साझा करें | अपने बच्चों को भी सीख दे की कभी भी इस कीड़े को ना मारे | पोस्ट में ‘Khangdba angangna pairuni’ लिखा हुआ है | अन्य भाषा में होने की वजह से हमने इस भाषा की पहचान के लिए पोस्ट करने वाले व्यक्ति का प्रोफाइल देखा | प्रोफाइल में लिखा है कि यह व्यक्ति थौबल नामक जगह से है | गूगल पर ‘Thoubal’ की वर्ड्स से ढूंढने पर हमें पता चला कि थौबल मणिपुर राज्य में है | फिर हमने उपरोक्त वाक्य का जब हमारे मणिपुरी भाषा विशेषज्ञ से अनुवाद कराया तो पता चला कि इस वाक्य का अर्थ है “जिन बच्चों को पता नहीं, वह शायद छु ले या पकड़ ले |” पोस्ट के ज़रिये यह दावा किया जा रहा है कि चित्र में दर्शाया गया कीड़ा, इंसान के शरीर में घातक विषाणु फैलाता है | क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

संशोधन से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले इस पोस्ट में दर्शाये गए कीड़े की तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च में ढूंढा, हमें मिले परिणाम को आप नीचे देख सकतें हैं |

कुओरा’ में हमें एक पोस्ट मिला जिसमे ‘भारत मे किस प्रकार के कीड़े मौजूद है ?’ सवाल किया गया है | इसके जवाब में ‘विनुथा मादले’ नामक एक व्यक्ति ने जवाब के पहले ही उदाहरण में उपरोक्त पोस्ट से मिलती-जुलती तस्वीर साझा की है और कहा कि यह एक विशाल नर पानी कीट (Male Giant Water Bug) है | यह कीड़ा अपने पीठ पर मादा जल कीट द्वारा दिए गए अंडे लेकर घूमता है | इसके साथ उपरोक्त पोस्ट मे साझा तस्वीर देकर यह भी लिखा था कि यह कीड़ा हाथ की दर्शाई हालत नहीं करता है | यह महज़ एक अफ़वाह है | पूरी पोस्ट पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

QuoraPost | ArchivedLink

इस बात को और पुख्ता करने के लिए हमने गूगल पर ‘Male Giant Water Bug’ की वर्ड्स से ढूंढा, तो हमें उपरोक्त तस्वीर मे दर्शाये गए कीडे से मिलती-जुलती कई तस्वीरें मिली |

इस संशोधन से यह बात तो पुख्ता हो जाती है कि उपरोक्त पोस्ट मे दर्शाया गया कीड़ा विशाल मादा जल कीट है | फिर हमने गूगल पर ‘Can Male Giant Water Bug harm humans’ की वर्ड्स से ढूंढा तो हमें National Center for Biotechnology Information, U.S. द्वारा जारी एक रिपोर्ट मिली | इस रिपोर्ट के मुताबिक, अगर यह जल कीट इंसान को काट ले तो काफ़ी तीव्र दर्द होता है और कुछ किस्सों में वह जगह सुन्न भी हो जाती है | मगर कहीं भी ऐसी कोई घटना नहीं मिली जिसमे यह लिखा हो कि इस कीड़े की वजह से शरीर में गड्ढे हो गए हो |

NCBIPost | ArchivedLink

फिर हमने उपरोक्त पोस्ट मे दर्शाये गए हाथ की तस्वीर तो गूगल रिवर्स इमेज सर्च में ढूंढा, तो हमें YouTube का एक विडियो मिला |

इस विडियो मे दर्शाया गया है कि किस तरह से आप मोम की मदद से ऐसा हाथ बना सकतें हैं | इस विडियो को आप नीचे देख सकतें हैं |

इसके अलावा हमें एक ट्वीट भी मिला जिसमे ‘Kristaa’ नामक एक यूजर ने उपरोक्त पोस्ट में दी गयी तस्वीर को साझा कर ‘SFXmakeup’ को टैग किया है |

जब हमने ‘SFXmakeup’ पर क्लिक किया तो हमें ट्विटर पर मेक-अप द्वारा किये गए ऐसी और कई तस्वीरें मिली | इस संशोधन से यह बात पता चलती है कि उपरोक्त तस्वीर मे साझा हाथ की तस्वीर बनावटी है और मेक-अप व मोम की मदद से बनायी गयी है |

इसके बाद हमने उपरोक्त तस्वीर के तीसरे तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज में ढूंढा, जिसके मिले परिणाम को आप नीचे देख सकतें हैं |

fr.cohomedecor.com’ द्वारा दी गयी एक पोस्ट मे यह लिखा है कि इन्टरनेट में ऐसी कई तस्वीरें साझा हो रहीं है जिनमे ‘Lamprey’ नामक एक प्रजाति की बाम मछली (EEL) के मूंह की तस्वीर को फोटोशोप की मदद से अपने हाथ या आंखों के साथ जोड़कर साझा किया जा रहा है | कहा जा रहा है की यह असली बिमारी है जिसका नाम ‘Lamprey disease’ होने का दावा किया जा रहा है, मगर ऐसा नहीं है |

इस बात की सत्यता को जानने के लिए हमने गूगल पर ‘lamprey disease’ की वर्ड्स से ढूंढा, हमें मिले परिणाम को आप नीचे देख सकतें हैं |

इस संशोधन में हमें ‘Medigoo.com’ का एक प्रकाशन मिला, जिसके मुताबिक ‘lamprey disease’ महज़ एक मज़ाक है और ऐसी कोई बिमारी है ही नहीं | इन्टरनेट पर २००७ से कई तस्वीरें साझा हो रही है, जिसमे लोग ‘Lamprey’ नामक एक प्रजाति की बाम मछली (EEL) के मूंह की तस्वीर को फोटोशोप की मदद से अपने हाथ या आंखों के साथ जोड़कर साझा कर रहें है | पूरा लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें |

MedigooPost | ArchivedLink

YouTube पर ‘lamprey disease’ की वर्ड्स से ढूंढने पर हमें एक विडियो मिला | इस विडियो मे उपरोक्त पोस्ट मे दी गयी उंगली की तस्वीर दर्शाते हुए विडियो के एंकर ने कहा कि यह तस्वीरें गलत है और विडियो मे ०.३३ सेकंड में भी यह लिखा पाया गया कि Snopes.com ने कहा है कि ऐसी तस्वीरें फोटोशोप के ज़रिये बदली गयी है | इस विडियो को आप नीचे देख सकतें हैं |

इस संशोधन से हम इस परिणाम पर आते हैं कि उपरोक्त पोस्ट मे दर्शायी गयी तस्वीरें फोटोशोप की मदद से बदलकर लोगों को भ्रमित करने के लिए साझा की जा रही है |

जांच का परिणाम : इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा की, “चित्र में दर्शाया गया कीड़ा, इंसान के शरीर में घातक विषाणु फैलाता है |” गलत है | यह चित्र फोटोशोप की मदद से बदलकर लोगों में भ्रम पैदा करने के लिए साझा की जा रही है |

Avatar

Title:क्या एक नए नस्ल के कीडे को छूने से उसका घातक विषाणु इंसानी शरीर में फैलता है ? जानिये सच |

Fact Check By: Nita Rao 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •