Edited Video Clip- क्या राहुल गाँधी ने आसमान में चील को बेरोज़गार कहते हुए इसका जिम्मेदार भाजपा और आर.एस.एस को ठहराया ?

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली चुनावों के मद्देनजर राहुल गांधी इन दिनों दिल्ली में कांग्रेस पार्टी में चुनाव प्रचार कर रहे हैं, इसी दौरान उनके द्वारा दिए गये भाषण का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से फैलाया जा रहा है, वीडियो में, राहुल गांधी कहते हैं – मुझे एक बात समझाओये जो चील है ये यहाँ क्यों उड़ रही है? मुझे बताएं कि ये चील यहां क्या कर रहे हैं… क्या कोई मुझे बता सकता है? वे पिछले पांच साल से उनको रोजगार नहीं मिल रहा है… इसका कारण नरेंद्र मोदी है… इसका कारण आरएसएस है, इसका कारण है भाजपा |” 

इस पोस्ट को फेसबुक पर साझा करते हुए लिखा गया है कि “ये जो चील हवा मे उड़ रहे है, बेरोजगार है, उसका कारण मोदी है, RSS है…अपना ट्यूबलाइट पप्पू” |

क्या सच मे राहुल गाँधी के अपने चुनावी भाषण में चील पक्षी को बेरोज़गार कहते हुए भाजपा और आर.एस.एस को जिम्मेदार ठहराया? यह वीडियो सुनने व देखने में ही एडिटेड लगता है | जानिए सच 

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

यह वीडियो क्लिप फेसबुक पर काफी तेजी से फ़ैल रहा है |

फैक्ट क्रेस्सन्डो के खोज से हमने इस वीडियो को एडिटेड पाया है | 

इस वीडियो क्लिप को यूट्यूब में कीवर्ड्स के माध्यम से ढूँढने पर हमने पाया की यह वीडियो ५ फरवरी, २०२० को कोंडली, दिल्ली में राहुल गांधी द्वारा दिए गये भाषण से उठाया गया है | राहुल गांधी ने दिल्ली में एक चुनावी अभियान को संबोधित करते हुए यह भाषण दिया था | हमें कांग्रेस पार्टी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर पूरे भाषण का वीडियो मिला, इस पुरे वीडियो को सुनने के बाद हमें पता चला की वीडियो को अलग अलग हिस्सों से काटकर जोड़ा गया है ताकि एक अलग मतलब निकाला जा सके |

राहुल गाँधी के भाषण की प्रतिलिपि आप नीचे पढ़ सकतें हैं |

Shri_Rahul_Gandhi_-05.02.2020

ऊपर दिया गया मूल वीडियो जो लगभग तीन घंटे का है, इस वीडियो में राहुल गांधी एक घंटे बाद बोलने के लिए आते हैं, वायरल वीडियो क्लिप का पहला हिस्सा १:१८:२५ से सुना जा सकता है जब राहुल गाँधी आसमान में उड़ते चील के बारें में बात करते है | वीडियो के इस अंश में राहुल गाँधी चील के संदर्भ में कहते है की आसमान में इतने चील इस वजह से नज़र आ रहे है क्योंकि दिल्ली में इतनी गंदगी है | 

राहुल गाँधी कहते है कि “अच्छा ये बताओ ये जो चील है ये यहां क्यूं उड रहै है? ये चील यहां क्या कर रहे है ये बताओ मुझे? कोई बता सकता है ये चील यहां क्यूं घुम रहे है? ये जो गंदगी है…इस गंदगी को हटाने के लिये आप मुझे बतायें कितने करोड रुपयें लगेंगे? पाच करोड़? दस करोड़?… ठीक है पचास करोड़ लग जाएंगे. नरेंद मोदी जी ने कुछ दिन पहेल सबसे अमीर लोगों का एक लाख बीस हजार करोड रुपए का टैक्स माफ किया है |”

वायरल वीडियो क्लिप का दूसरा हिस्सा १:११:४३ में सुना जा सकता है जब राहुल गाँधी युवाओं की बेरोज़गारी से बारें में बात करता है | 

राहुल गाँधी कहते है कि “युवाओं को ये समझ नहीं आ रहा है की, इतने साल उन्होने जो पढाई की…मगर पिछले पांच साल से उनको रोजगार नहीं मिल रहा हैं. और किसी भी देश यूथ को, नई जनरेशन को रास्ता नहीं दिखता तो फिर यूथ के दिल में गुस्सा पैदा होता है |”

वायरल वीडियो क्लिप का तीसरा हिस्सा १:१०:१० में सुना जा सकता है जब राहुल गाँधी हिंदुस्तान के माहौल बिगड़ने की बात करते है और कहते है की भारत के माहौल बिगड़ने का कारण मोदी जी, आर.एस.एस और भाजपा है | 

राहुल गाँधी कहते है कि “पिछले पांच सालो में हिंदुस्तान का माहौल पूरा बदल गया है…पहले जैसी शांती नहीं रही…सबको मालूम है महौल बिगड़ गया…इसका कारण क्या है? बहुत सारे लोग कहेंगे इसका कारण नरेंद्र मोदी है. इसका कारण आरएसएस है. इसका कारण बीजेपी है. मगर इसका कारण मैं थोडा बदल के कहना चाहता हूं. इसका सबका सबसे बडा कारण है कि, हिंदुस्तान की जनता को, खास तौर पे जो हमारा युवा है, उसे रास्ता नहीं दिख रहा. |

नीचे आप इन तीन हिस्सों का और सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो क्लिप की तुलना देख सकते हैं | राहुल गाँधी के मूल भाषण से तीन अलग अलग जगहों से वीडियो के कुछ सेकंड काटकर और उन्हें जोड़कर एक ३३ सेकंड का क्लिप बनाया गया है जिसे सोशल मीडिया पर लोगों को भ्रमित करने के लिए फैलाया है जा रहा है | 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर राहुल गाँधी के नाम से ३३ सेकंड का वीडियो क्लिप एडिटेड है | इस वीडियो को तीन अलग लाग हिस्सों को जोड़कर बनाया गया है | 

Avatar

Title:Edited Video Clip- क्या राहुल गाँधी ने आसमान में चील को बेरोज़गार कहते हुए इसका जिम्मेदार भाजपा और आर.एस.एस को ठहराया ?

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •