Factcheck:- केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को लेकर फर्जी वीडियो हुआ वायरल |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अकसर सोशल मंचों पर राजनीति से जुड़े राजनेताओं को ले गलत व भ्रामक दावे पोस्ट लिए जाते रहें हैं, वर्तमान में इसी श्रृंखला के अंतर्गत केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से जोड़कर सोशल मंचों पर प्रसारित एक वीडियो चर्चा का विषय बना हुआ है, वीडियो में कुछ लोगों की उग्र भीड़ एक व्यक्ति को पीटते हुये दिख रही है और इस व्यक्ति को सोशल मंचों पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन बताया जा रहा है, सोशल मंचों पर वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि

 “लो भाई बीजेपी सांसद हर्षवर्धन की पिटाई” |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक  

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से सम्बंधित ये दावा सत्य नहीं है, हमारी पड़ताल में हमने इस वीडियो को २०१६ का बंगाल से पाया है जब टी.एम.सी छोड़ भा.ज.पा में शामिल सुब्रत मिश्रा को टी.एम.सी के कार्यकर्ताओं द्वारा पीटा गया था।

अनुसंधान

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को इन्विड टूल के माध्यम से छोटे छोटे कीफ्रेम्स में काटकर व इन कीफफ्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें १९ अक्टूबर २०१६ को ए.एन.आई (A.N.I) न्यूज़ ऑफिसियल द्वारा प्रसारित किया गया यूट्यूब वीडियो मिला |

इस वीडियो के शीर्षक और विवरण में लिखा गया है कि 

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और उनके काफिले पर मंगलवार को पश्चिम बंगाल के आसनसोल जिले में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) समर्थकों ने कथित तौर से हमला कर दिया। हाथापाई के दौरान एक बीजेपी पार्टी कार्यकर्ता की भी पिटाई की गई और उसके कपड़े फाड़ दिए गए। भीड़ ने पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में कथित रूप से पथराव किया और पार्टी कार्यकर्ताओं की पिटाई की।

इस वीडियो के आखरी 6 सेकंड में हम वायरल वीडियो में दिख रहे दृश्यों को देख सकते है |

गूगल पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें ANI द्वारा प्रकाशित तस्वीरें भी प्राप्त हुईं, जिसमें हम वीडियो में दिख रहे दृश्यों को देख सकते है | इन तस्वीरों को १९ अक्टूबर २०१६ को अपलोड किया गया था | ट्वीट में लिखा गया है कि 

पश्चिम बंगाल: आसनसोल में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की यात्रा के दौरान हुआ हंगामा” | 

इन्हीं तस्वीरों में हमें पीड़ित भी नज़र आते है |

आर्काइव लिंक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर हमें उनके द्वारा इस सम्बन्ध में जारी किया गया स्पष्टीकरण प्राप्त हुआ जिसमे उन्होंने लिखा है कि 

मेरे नाम का एक वीडियो व्हाट्सएप और अन्य मीडिया पर फैलाया जा रहा है | यह भ्रामक और शरारती इरादे से फैलाई जा रही भ्रामक पोस्ट है |” 

इसी वीडियो को २०१६ में भी डॉक्टर हर्ष वर्धन के नाम से फैलाया गया था, जिससे उत्तर में तब उन्होंने यह स्पष्टीकरण जारी किया था | २०१६ को वायरल हुए वीडियो को आप यहाँ देख सकते है |

आर्काइव लिंक

यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें २० अक्टूबर २०२० को NDTV द्वारा प्रकाशित इस सम्बन्ध में खबर मिली जिसके अनुसार वीडियो में पीट रहे व्यक्ति एक स्थानीय भाजपा नेता सुब्रता मिश्रा है |

आर्काइव लिंक

तद्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने बंगाल से भाजपा नेता सुब्रत मिश्रा से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि 

यह वीडियो २०१६ का है | वीडियो में दिख रहा व्यक्ति मैं ही हूँ और यह घटना आसनसोल की है | उस समय टीएमसी के लोगों ने मुझ पर हमला किया था और जैसा की आप देख सकते है उन्होंने मेरे कपड़े भी फाड़ दिए थे |” 

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत है | वीडियो केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन से सम्बंधित नहीं है बल्कि हकीकत में यह वीडियो बंगाल में भाजपा के स्थानीय नीता सुब्रत मिश्रा का है जिन्हें वर्ष २०१६ में पिटा गया था |

Avatar

Title:केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को लेकर फर्जी वीडियो हुआ वायरल |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply