वरिष्ठ सीपीआई नेता की पुरानी तस्वीर जे.एन.यू के छात्रा के नाम से वायरल।

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१९ नवंबर २०१९ को “Rajat Tyagi” नामक फेसबुक यूजर ने एक तस्वीर पोस्ट कर, उसके शीर्षक में लिखा कि “JNU के एक फाइनल इयर स्टूडेंट को गिरफ्तार किया गया” | इस शीर्षक के साथ हम एक उम्रदराज़ महिला की गिरफ्तारी की तस्वीर देख सकते है | इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि तस्वीर में दिखाई गयी बुज़ुर्ग महिला दिल्ली के जे.एन.यू की फाइनल इयर की छात्रा है जिन्हें आज गिरफ्तार किया गया है | 

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

यह तस्वीर ट्विटर पर भी इसी दावे के साथ साझा की जा रही है।

आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि..

जाँच की शुरुआत हमने इस तस्वीर का स्क्रीनग्रैब लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च से की, जिसके परिणाम से हमें ७ मई २०१९ को द टेलीग्राफ द्वारा प्रकाशित एक खबर मिली | इस खबर के शीर्षक में लिखा गया है कि “सुप्रीम कोर्ट के बाहर विरोध करने पर हिरासत में लिए गए ५५ प्रदर्शनकारियों में से महिलाएं” | इस खबर में वायरल तस्वीर को इस्तेमाल करते हुए लिखा गया है कि “७ मई २०१९  को नई दिल्ली में यौन उत्पीड़न मामले में चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया को मंजूरी देने वाली सुप्रीम कोर्ट की इन-हाउस कमेटी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान एक महिला को हिरासत में लिया गया है | (PTI)”

आर्काइव लिंक 

इससे हमें यह स्पष्ट होता है कि यह तस्वीर जे.एन.यू की नहीं है, बल्कि मई २०१९ में सुप्रीम कोर्ट के बाहर आयोजित हुए विरोध प्रदर्शन से है जो भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप से निपटने के लिए अपनाई गई प्रक्रिया के खिलाफ है |

इसके पश्चात हमें मथ्रुभूमि द्वारा प्राकशित एक खबर मिली, जिसके अनुसार गिरफ्तार किये गये महिलायों में सीपीआई के नेता और कार्यकर्ता एनी राजा को भी गिरफ्तार किया गया है | 

इसके पश्चात हमने एनी राजा के पति डी. राजा से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि “यह मेरी पत्नी, एनी राजा की तस्वीर है और इस तस्वीर का जे.एन.यू में वर्तमान विरोध प्रदर्शन के साथ कोई संबंध नही है | यह तस्वीर काफी पुरानी है और इसे मौजूदा जे.एन,यू प्रदर्शनों के साथ जोड़कर लोगों में भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है |”

डी. राजा तमिल नाडू से पूर्व राज्य सभा के सांसद थे और अभी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया के जनरल सेक्रेटरी के पद में है | 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | उपरोक्त तस्वीर को एक भ्रामक दावे के साथ साझा किया जा रहा है | तस्वीर में दिखाई गई महिला जे.एन.यू की वर्तमान छात्रा नहीं है, बल्कि सी.पी.आई नेता और कार्यकर्ता एनी राजा है | इस तस्वीर के साथ जे.एन.यू का कोई संबंध नही है | यह तस्वीर मई २०१९ को सुप्रीम कोर्ट के सामने किये गये एक विरोध प्रदर्शन से है |

Avatar

Title:वरिष्ठ सीपीआई नेता की पुरानी तस्वीर जे.एन.यू के छात्रा के नाम से वायरल।

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply