मोतिहारी में एक बुज़ुर्ग व्यक्ति को बच्चा चोर के संदेह पर पीटा गया |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सितम्बर २०१९ को “Parwez Alamनामक फेसबुक यूजर ने एक वीडियो साझा कर पोस्ट के   शीर्षक में लिखा है कि “बच्चा चोर मोतिहारी बलुआ चौक में पकड़ा गया” | इस वीडियो में भीड़ एक बुजुर्ग को पीटते हुए दिख रही है | इस वीडियो को सोशल मीडिया पर तेजी से फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि बिहार में मोतिहारी के बलुआ चौक पर एक बच्‍चा अपहरणकर्ता बच्चा चोरी करते हुए रंगेहाथ पकड़ा गया है | इस वीडियो में हम एक व्‍यक्ति को यह बोलते हुए सुन सकते है कि बलुआ चौक पर बच्‍चा चोरी करते हुए एक आदमी पकड़ा गया है| 

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो से जुडी खबरों को गूगल पर “मोतिहारी बच्चा चोर”  कीवर्ड्स के माध्यम से ढूँढा, जिसके परिणाम में हमें ७ सितंबर २०१९ को जागरण द्वारा प्रकाशित खबर मिली, जिसके शीर्षक में लिखा गया था कि “बिहार में फिर नजर आया भीड़ का क्रूर चेहरा, वृद्ध को पीट-पीटकर किया अधमरा” | खबर के अनुसार यह वीडियो मोतिहारी जिले का है जहां बलुआ चौक पर उत्तेजित भीड़ ने बच्चो को चोरी के संदेह पर एक वृद्ध को इतना पीटा कि वह अधमरा हो गया | इस खबर को रिपब्लिक हिंदी और इ.टीवी भारत ने भी प्रकाशित किया है |

आर्काइव लिंक | रिपब्लिक हिंदी | ETV Bharat आर्काइव 

८ सितंबर २०१९ को जागरण द्वारा प्रकाशित एक दुसरी खबर के शीर्षक में लिखा गया है कि “गांव-देहात के बाद अब शहर में भी उग्र भीड़ का हमला” | खबर में आगे बताया गया है कि डुमरियाघाट थाना क्षेत्र के नारायणपुर गांव निवासी बली यादव पंजाब जाने के लिए मोतिहारी रेलवे स्टेशन जा रहे थे, इसी दौरान किसी ने बच्चा चोरी की अफवाह फैला दी और इसके चलते भीड़ उस वृद्ध व्यक्ति पर टूट पड़ी |

आर्काइव लिंक 

इसके पश्चात हमने मोतिहारी टाउन पुलिस स्टेशन के सर्किल इंस्पेक्टर, अनंत कुमार सिंह से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि 

“७ सितंबर २०१९ को मोतिहारी शहर के चित्रमंदिर सिनेमा हॉल परिसर में एक वृद्ध को बच्चा चोर के संदेह में भीड़ ने उसे घेर लिया | इस आदमी का नाम बलि यादव है जो गोविंदगंज के निवासी है | असल में इन दिनों उन्होंने दाड़ी बढ़ाई हुई थी और काले रंग के कपडे पहने हुये थे ठीक जैसे साधू पहनते है, इसी के चलते लोगों को उनपर संदेह हुआ और उसे पकड़कर पूछताछ करने लगे | सवाल पूछे जाने पर उन्होंने जवाब दिया कि उसके पास चार बच्चे है और वे पंजाब जा रहे है | इसी बात को पकड़कर लोगों को लगा कि वे एक बच्चा चोर है | असल में बलि यह कहना चाहता था कि वे शादी शुदा है और उसके चार बच्चे है और वे पंजाब मजदूरी करके पैसे कमाने जा रहे थे | इसी बात को लोगों ने गलत समझकर उसे घेर लिया | वे रेलवे स्टेशन की ओर ही जा रहे थे परंतु वह बलुआ चौक पर कुछ सामान खरीदने लगा, और इसी जगह यह घटना घटी | इसके पश्चात घटनास्थल पर पुलिस पहुची और उन्हें लोगों की भीड़ से छुड़ाया व पुलिस स्टेशन लेकर आये | बाद मे उनके बेटे के आने के बाद बलि यादव को उसके परिजनों के पास सौंप दिया गया” |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत है | वीडियो को सोशल मीडिया पर एक भ्रामक व गलत दावे के साथ फैलाया जा रहा है | यह बुजुर्ग मोतिहारी रेलवे स्‍टेशन पर ट्रेन पकड़ने जा रहे थे, तभी रास्‍ते में लोगों ने बच्‍चा चोर समझकर उनकी पिटाई कर दी | वीडियो में दर्शाया बुजुर्ग बच्चा चोर नही है | यह पूरी घटना संदेह व अफ़वाह के चलते घटी थी |

Avatar

Title:मोतिहारी में एक बुज़ुर्ग व्यक्ति को बच्चा चोर के संदेह पर पीटा गया |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply