पांच साल पुराना वीडियो हालिया लोकसभा चुनाव से जोड़ कर वायरल…

False Political

सड़क पर धरना दे रहे कुछ लोगों का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से शेयर किया जा रहा है। वायरल वीडियो में भीड़ दलित-आदिवासी और आरक्षण के खिलाफ नारेबाजी करते नजर आ रही है। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि आरक्षण को हटाने के मुद्दे पर औरंगाबाद के 10 परसेंट के लोगों द्वारा एससी एसटी ओबीसी ,हाय हाय एवं मुर्दाबाद के नारे लगाये जा रहे हैं। वायरल वीडियो को लोकसभा चुनाव का बताकर शेयर किया जा रहा है। 

वायरल वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- औरंगाबाद के 10 परसेंट के लोगों द्वारा देखिए किस तरह से एससी एसटी ओबीसी ,हाय हाय एवं मुर्दाबाद का नारा लगाया जा रहा है, आरक्षण को हटाने की बात कही जा रही है, क्या इस पर भी औरंगाबाद के 90% के लोग चुप बैठेंगे या 19/ 4/24 को महागठबंधन उम्मीदवार अभय कुशवाहा एक नंबर लालटेन छाप पर वोट देने का काम करेंगे ,हम लोगों को गरीबों के मसीहा आदरणीय लालू प्रसाद जी ने जो मान सम्मान गरीबों को दिया था, उसको हम लोग कभी नहीं भूलेंगे ,इसलिए अबकी बार लालटेन छाप पर वोट देकर उनके हाथों को मजबूत करेंगे ।

फेसबुकआर्काइव 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

पड़ताल की शुरुआत में हमने वायरल वीडियो के कुछ स्कीरनशॉर्ट लिए। मिली तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च करने पर वायरल वीडियो हमें बीडीसी हिंदी यूट्यूब चैनल पर प्रकाशित मिला। यहां पर वीडियो को पांच साल पहले यानी 31 जनवरी 2019 को अपलोड किया गया है। 

 प्रकाशित वीडियो के कैप्शन में लिखा है- एससी/एसटी भीम आर्मी मुर्दाबाद, एससी/एसटी भीम आर्मी मुर्दाबाद,

इससे यह बात साफ है कि वीडियो 2019 है। वीडियो का हालिया लोकसभा चुनाव से कोई संबंध नहीं है। निम्न में वीडियो देखें। 

इसके अलवा इस वीडियो को यहां, यहां और यहां पर भी देखा जा सकता है। यहां पर भी 2019 में वीडियो अपलोड की गई है।  प्रकाशित पोस्ट के अनुसार नारे लगा रहे लोग एनडीए की उम्मीदवार कविता सिंह और उनके पति अजय सिंह के समर्थक हैं। साथ ही जानकारी दी है कि नारेबाजी कर रहे लोग हिंदू युवा वाहिनी के लोग थे। निम्न में पोस्ट देखें। 

आर्काइव

आरक्षण पर डाका डालने की तैयारी में कांग्रेस- बीजेपी

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक चुनावी रैली में कहा – INDI अघाडी वाले वोट बैंक की राजनीति में इतना गिर गए हैं कि शिवाजी महाराज की धरती पर औरंगजेब को मानने वालों से जाकर मिल गए। उन्होंने कहा, ‘महाराष्ट्र की ये धरती सामाजिक न्याय का प्रतीक है, लेकिन कांग्रेस और INDI अघाड़ी ने सामाजिक न्याय की हत्या करने की भी ठान ली है। बाबा साहेब अंबेडकर का अपमान करने वाली कांग्रेस अब दलितों और पिछड़ों के आरक्षण पर डाका डालने की तैयारी में हैं। 

निष्कर्ष- तथ्य-जांच के बाद हमने पाया कि, आरक्षण को हटाने की मुद्दे पर औरंगाबाद के 10 परसेंट के लोगों द्वारा एससी एसटी ओबीसी ,हाय हाय एवं मुर्दाबाद का नारा लगाने का दावा फर्जी। यह वीडियो लोकसभा चुनाव से संबंधित नहीं है, यह 2019 से इंटरनेट पर मौजूद है। 

Avatar

Title:पांच साल पुराना वीडियो हालिया लोकसभा चुनाव से जोड़ कर वायरल…

Fact Check By: Sarita Samal 

Result: False

Leave a Reply