तथ्य कि जांच:– “अगर कोई जाति की बात करेगा तो मैं उसकी पिटाई कर दूंगा”-नितिन गडकरी |

Political Real News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यह चित्र हमने The Hindu Business Line के वेबसाइट से प्रतिनिधित्व के हेतु लिया है । इस चित्र का निचे दिए लेख के साथ कोई सम्बन्ध नहीं है ।

आज कल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी जी अपने विवादित बंयानों को लेकर आकर्षण का केंद्र बने हुए है । उनके द्वारा कहे हुए वाक्य अलग अलग कथनों के साथ साझा किया जा रहा है । रविवार १० फेब्रुअरी को पुणे के पिंपरी-चिंचवड में पुण्यर्थन समरसता गुरुकुलम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने यह कहा कि समाज को आर्थिक और सामाजिक समानता के आधार पर एक साथ लाना चाहिए व इस समाज मे जातिवाद और सांप्रदायिकता के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए । उसी कार्यक्रम के चलते वक्त नितिन गडकरी जी के कहे गए वाक्य “अगर कोई जाति की बात करेगा तो मैं उसकी पिटाई कर दूंगा” को सोशल मीडिया पर काफी बार साझा किया जा रहा है । उनके द्वारा दिए गए इस कथन को अलग अलग तरीके से पेश किया गया है | 


कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों ने स्थापित किया है कि गडकरी जी ने वाकई मे उपरोक्त वाक्य को कहा है |

NDTV India| Times now News | The Financial Express | The Indian express | India Today | Aaj Tak | Maharahstra Times

फेसबुक पर इस बात के विरोध व समर्थन में कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी|

ट्विटर पे एमपी कांग्रेस ने गडकरी जी के इस वाक्य को शेयर करते हुए उनसे पूछा कि वह हिंदू देवता हनुमान की जाति पर चर्चा करने वालों को कैसे पीटेंगे ?

हमारे द्वारा किये गए तथ्यों के जांच का परिणाम:

हमारे द्वारा तथ्यों कि जांच करने के बाद हमने पाया कि नितिन गडकरी जी ने “अगर कोई जाति की बात करेगा तो मैं उसकी पिटाई कर दूंगा” कहा था व यह तथ्य सच है | वे रविवार १० फेब्रुअरी को पुणे के पिंपरी-चिंचवड में पुण्यर्थन समरसता गुरुकुलम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा “हम जाति मे विश्वास नही करते हैं। मुझे नही पता कि आपकी जगह पर कितनी जातियां हैं, लेकिन हमारे स्थान पर कोई जाति नही है क्योंकि मैंने सभी को बताया है कि जो जाति के बारे में बात करेंगे उनकी पिटाई की जाएगी”  गडकरी जी ने सभी को जाति और सांप्रदायिकता से मुक्त समाज बनाने का आग्रह करते हुए कहा कि “समाज में, गरीब और अमीर के बीच कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए, कोई भी उच्च या निम्न जाति का नहीं होना चाहिए” व उन्होंने यह राय भी दी कि किसी को भी जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए । गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करने के लिए सभी को सलाह देते हुए उन्होंने कहा, “हमें गरीबों को भोजन, कपड़ा और मकान उपलब्ध कराना चाहिए। गरीबों की सेवा करना भगवान की सेवा करने जैसा है ।” इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा कि समाज को आर्थिक और सामाजिक समानता के आधार पर एक साथ लाना चाहिए व इस समाज मे जातिवाद और सांप्रदायिकता के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। उनके द्वारा दिए गए इस कथन को अलग अलग तरीके से पेश किया गया है | 

पूर्ण जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करिए

ANINews
निष्कर्ष:

हमारे विश्लेषण के बाद हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे है कि नितिन गडकरी जी द्वारा कहा गया यह तथ्य सही है | यह वाक्य नितिन गडकरी ने पुणे के पिंपरी-चिंचवड में पुण्यर्थन समरसता गुरुकुलम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए समाज के आर्थिक और सामाजिक समानता के प्रसंग मे कहा था | इस बात को सोशल मीडिया मे अलग अलग कथनों व व्यतिगत राय के साथ भ्रामक तरीके से प्रस्तुत किया जा रहा है |

Real Title: तथ्य कि जांच:– “अगर कोई जाति की बात करेगा तो मैं उसकी पिटाई कर दूंगा”-नितिन गडकरी |”
Fact Check By: Drabanti Ghosh 
Result: Real

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •